बैंकिंग और वित्त

भिंड जिले में लगभग सभी प्रमुख वाणिज्यिक बैंक मौजूद हैं। जिले की अर्थव्यवस्था मुख्यतः कृषि उन्मुख है l सभी कृषि प्रधान देशों में कृषि की निरंतरता हेतु क्रेडिट सुविधाएं प्रदान करने के लिए वित्तीय एजेंसी आवश्यक है। पूर्व काल में क्रेडिट सुविधाएं मुख्य रूप से स्वदेशी पैमाने पर स्थानीय महाजनों द्वारा दी जाती थीं

भिंड जिले में बैंकिंग गतिविधियां 1943 में इम्पीरियल बैंक ऑफ़ इंडिया की शाखा की स्थापना के साथ शुरू हुई। इसके बाद 1945 में भारत बैंक ने भिंड में अपनी शाखा खोली । इसके बाद यूनाइटेड कॉमर्शियल बैंक ने 1947 में अपनी शाखा खोली । इम्पीरियल बैंक ऑफ़ इंडिया का राष्ट्रीयकरण किया गया और 1955 में इसका नाम भारतीय स्टेट बैंक रख दिया गया । भिंड में बैंकिंग कार्यालयों की कुल संख्या जो बर्ष 1960 में 1 थी वह बढ़कर बर्ष 2000 में 61 हो गई ।

भिंड में प्रमुख वाणिज्यिक बैंक हैं – स्टेट बैंक ऑफ इंडिया, सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया, यूनाइटेड कॉमर्शियल बैंक, पंजाब और सिंध बैंक, ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स, यूको बैंक तथा क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक । लीड बैंक योजना के अंतर्गत सेन्ट्रल बैंक ऑफ़ इंडिया को भिंड जिले की लीड बैंक का ओहदा दिया गया तथा जिले में इसे क्रेडिट बैंकिंग के विकास में क्रेडिट की जरूरतों के सर्वेक्षण में अग्रणी भूमिका निभाने की ज़िम्मेदारी दी गई ।

भिंड जिले की बैंकों / शाखाओं की सूची